अंतरिक्ष शुरुआत से ही मानव के रहस्यों की खान रहा है,क्यूँ कि इंसान एक जिज्ञासु प्रविर्ती का जीव है।
इसी कारण मानव की इच्छा अधिक जानने और बेहतर करने की रहती है।
ब्रह्माण्ड में ऐसा बहुत कुछ है जिसका सिरा ढूंढना भी अपने आप में असंभव है।
वैज्ञानिक जितनी उसकी परत खोलते हैं, उनका आश्चर्य और अंतरिक्ष का रहस्य और अधिक गहराता जाता है।
अब देखो हाल ही में वैज्ञानिकों ने दूर अंतरिक्ष में अनोखा ग्रह खोज निकाला है।
जो फूल-सा हल्का है।
इसका आयतन तो हमारे सोलर सिस्टम के विशालतम ग्रह जुपिटर से भी ज्यादा है।
मगर इसका भार उससे आधा के बराबर है।
अब नए ग्रह को वैज्ञानिक ने नाम दिया है।
HAT-1-P

यह हमारे सौरमण्डल से 450 प्रकाश वर्ष दूर लेस्त्रेय तारा मण्डल (Lestre Star) का एक सदस्य है और एक तारे की परिक्रमा कर रहा है।
फिलहाल वैज्ञानिकों के सामने और भी रहस्य खड़े हो गए हैं कि आखिर अंतरिक्ष में इतने हल्के, कम घनत्व वाले ग्रह किस प्रकार बनते हैं?
अंतरिक्ष हमेशा से मनुष्य के रहस्यों की खान रहा है, तो आइये जानते हैं ब्रह्मांड के बारे में रोचक तथ्य जो आपको अवश्य सोचने के लिए मजबूर कर देंगे।

भयानक उल्कापिंड विस्फोट
  • अंतरिक्ष में आपकी आवाज़ को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँचाने का कोई माध्यम नहीं हैं। इसलिए आप किसी के सामने खड़े रहकर भी ऊँचा बोलेंगे तो भी वह आपकी आवाज़ नहीं सुन पायेंगे।
  • एक अंतरिक्ष यात्री का सूट बनाने में 1 करोड़ 20 लाख का खर्च आता है।
  • इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन का आकार एक फुटबॉल मैदान के बराबर है।
  • स्पेस में यदि धातु के दो टुकड़े आपस में एक-दूसरे को छुए तो वो आपस में स्थायी रूप से जुड़ जाते है।
  • कॉकरोज पृथ्वी की तुलना में ब्रह्माण्ड में ज्यादा तेजी से बड़े होते हैं।

अंतरिक्ष के अनसुलझे रहस्य…

  • 1977 में स्पेस से 72 सेकेंड का सिग्नल प्राप्त हुआ था, पर अब तक यह पता नहीं लग पाया कि यह सिग्नल किसने भेजा था।
  • जितना पानी पृथ्वी के सभी महासागरों में उससे 140 ट्रिलियन अधिक पानी का जलाशय अंतरिक्ष में तैरता रहता है।
  • नासा ने अब स्पेस में अंतरिक्ष यात्रियों के लिए 3डी पिज़्ज़ा बनाने की भी तैयारी कर ली है।
  • अंतरिक्ष में रोना बेकार है क्योंकि वहां बिना गुरुत्वाकर्षण के आंसू नहीं आते हैं।
  • सन् 1963 में अमेरिका ने अंतरिक्ष में एक हाइड्रोजन बम फेंका था जो कि हिरोशिमा में फेंके बम की अपेक्षा सौ गुणा ज्यादा शक्तिशाली था।
  • स्पेस में गुरुत्वाकर्षण ना होने के कारण स्पेस यात्री भोजन पर नमक या मिर्च नहीं छिड़क सकते, वे भोजन भी द्रव्य के रूप में लेते है,इसलिए क्यूँकि सूखे भोजन हवा में तैरने लगेंगे और इधर उधर टकराने के साथ ही स्पेस यात्री की आँख में भी घुस जाएगा।
चंद्रमा पृथ्वी का चक्कर नहीं लगाता|Barycenter of the Moon-Earth System
  • 10 अगस्त 2015 को, नासा के अंतरिक्ष यात्री ने खाना खाया जो पहली बार अंतरिक्ष में उगाया गया था।
  • नासा ने 3,200 ग्रहों की खोज की है, सभी की 99% निश्चितता के साथ पुष्टि की है।
  • लाइका नामक कुत्ते ने 13 नवंबर 1957 को स्पूतनिक 2nd यान में बैठकर धरती का चक्कर लगाया था। हालांकि वह पृथ्वी पर जीवित वापस नहीं आ पाई थी।
  • अंतरिक्ष गंध रहित नहीं है, अंतरिक्ष में वेडिंग के धुएँ जैसी गंध आती है।
  • अमेरिका को स्पेस में पहला इंसान भेजने में कामयाबी 20 फरवरी, 1962 को मिली। अंतरिक्ष में पहले अमेरिकी जॉन ग्लेन ने बाद में, 1996 में 77 वर्ष की उम्र में स्पेस शटल डिस्कवरी पर जाकर सबसे बुजुर्ग अंतरिक्ष यात्री होने का रिकॉर्ड बनाया।
  • यदि आप स्पेस में बिना किसी सुरक्षा उपकरण के जाएंगे तो आपका शरीर फट जाएगा क्योंकि वहां पर हवा का दवाब नहीं है।

अंतरिक्ष, स्पेससूट में सीटी बजाना असंभव…

  • अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन पर पेशाब एक विशेष जल उपचार सयंत्र से होकर के गुजरता हैं जो इसे पीने के पानी मे बदल देता हैं।
  • एस्ट्रोनॉट्स शब्द अमेरिका से आया हैं। जबकि रूस में अंतरिक्ष खोजकर्ता को कॉस्मोनॉट्स कहा जाता है।
  • “द ग्रेट वॉल ऑफ़ चाइना” स्पेस से देखने पर नजर नही आती क्यूँकि चीन में वायु प्रदूषण बहुत ज्यादा हैं।
  • स्पेस में पहली मानव निर्मित वस्तु जर्मन वी 2 रॉकेट थी।
  • 1962 में यु एस ए ने स्पेस में हाइड्रोजन बम का परीक्षण किया था जो हिरोशिमा परमाणु हमले से 100 गुना ज्यादा था।
  • अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन अभी तक बनाया गया सबसे महंगी वस्तु है, 150 बिलियन अमरीकी डॉलर में इसकी कुल लागत है।
  • स्पेस यात्री को सोने के लिए काफी मेहनत करनी होती है। उन्हें आंखों पर पट्टी बांध कर एक बंकर में सोना होता है ताकि वह तैरने और इधर-उधर टकराने से बच सके।
अंतरिक्ष के गहरे राज
  • औसत रुप से चंद्रमा से पृथ्वी तक प्रकाश आने में 1.3 सेकेंड का समय लगता है।
  • धुमकेतू का केंद्र न्यूक्लियस कहलाता है।
  • 2006 में प्लूटो को ग्रह की श्रेणी से हटा कर बौना ग्रह का दर्जा दे दिया गया।
  • 23 अप्रैल, 1967 को सोवियत कॉस्मोनॉट व्लादिमीर कोमारोव अंतरिक्ष की अपनी दूसरी यात्रा के दौरान वापसी में स्पेसक्राफ्ट के दुर्घटनाग्रस्त हो जाने पर मारे गए थे। स्पेस यात्रा में मरने वाले वे दुनिया के पहले व्यक्ति थे।
  • ज्यादातर अंतरिक्षयात्री स्पेस में जाकर 5cm तक लम्बे हो जाते हैं।
  • अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर अंतरिक्ष यात्री लगभग 15 सूर्योदय और 15 सूर्यास्त को हर रोज़ देखते हैं।
  • बुध ग्रह पर एक साल पृथ्वी के 88 दिन के बराबर होता है।
  • स्पेस मे ग्रेविटी ना होने के कारण वहां सामान्य रुप से कोई भी कलम से लिख नहीं सकते है।

मिल्की वे आकाशगंगा का का केंद्र रम की तरह महकता…

  • अंतरिक्ष यात्री स्पेस में डकार नहीं ले सकते क्योंकि द्रव और गैस हमारे पेट में ज़ीरो ग्रेविटी के कारण अलग नहीं हो पाते।
  • मंगल में सूर्यास्त नीला होता है शनि का घनत्व इतना कम होता है कि वह पानी में तैर सकता।
  • चंद्रमा का द्रव्यमान पृथ्वी के द्रव्यमान का आठवां भाग होता है।
  • नासा का मतलब नैशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन होता है।
  • शनि ग्रह के चारों ओर बना गोल घेरा पत्थरों, धूल के गुबार ओर जमे हुए पानी से बना है |
  • बुध ग्रह में कोई वायुमंडल नहीं पाया जाता अर्थात वहां ना हीं हवा है और ना ही किसी प्रकार का मौसम है।
  • चीन में मिल्की वे सिल्वर रिवर के रूप में जानी जाती है।
  • प्लूटो का नाम रोमन देवता के नाम पर रखा गया।
  • हमारा चंद्रमा पृथ्वी से 4 सेंटीमीटर प्रति वर्ष की दर से दूर होता जा रहा है।
बुध ग्रह Mercury Planet
  • अंतरिक्ष में जाने वाली पहली महिला वैलेंटिना तेरेसकोवा थी।
  • अगर शनि के चारों ओर के छल्ले 1 मीटर लंबे हो तो वे ब्लेड की तुलना में 10000 गुना पतले होंगे।
  • स्पेस में भेजा गया पहला आर्टिफिशियल सैटेलाइट स्पुतनिक था।
  • पृथ्वी से सबसे दूर गैलेक्सी GRB 090423 है।
  • खुले अंतरिक्ष में साँस लेने से इंसान केवल 30 सेकंड में ही मर जायेगा।
  • अंतरिक्ष में जाने वाली पहली पेय पदार्थ कोका कोला था।
  • यदि कोई तारा ब्लैक होल के काफी पास से होकर गुजरता है तो वह बिखर सकता है।
  • हमारे सौर मंडल का सबसे गर्म ग्रह शुक्र है ज्यादातर लोग हमेशा सोचते हैं कि सबसे गर्म ग्रह बुद्ध होगा क्योंकि यह सूर्य के ज्यादा नज़दीक है जबकि ऐसा नहीं है। शुक्र के वायुमंडल में कई प्रकार की गैसें पाई जाती हैं जो कि ‘ग्रीन हाउस इफेक्ट’ का कारण बनती हैं अतः शुक्र अधिक गर्म है।
अंतरिक्ष में हवा की अनुपस्थिति के कारण एक दूसरे की आवाज़ सुनाई नहीं देती…
  • हमारे सौरमंडल 4.6 बिलियन वर्ष पुराना है वैज्ञानिकों का अनुमान है कि यह 5000 मिलियन वर्ष तक अस्तित्व में रहेगा।
  • शनि के छोटे उपग्रहों में एन्सेलाडस (enceladus) सूर्य से प्राप्त 90% प्रकाश को परावर्तित कर देता है।
  • हमारे सौरमंडल का सबसे ऊंचा पर्वत ओलंपस मॉन्स (Olympus mons) है जो कि मंगल पर स्थित है।
  • अंतरिक्ष में सूर्य का रंग सफेद दिखाई देता है।
  • ओलंपस मॉन्स 25 किलोमीटर ऊंचा है जोकि माउंट एवरेस्ट से लगभग 3 गुना अधिक है।
  • एक प्रकाश वर्ष, प्रकाश द्वारा 1 वर्ष में चली गई दूरी होती है जो कि 9.5 ट्रिलियन किलोमीटर के बराबर है।
  • मिल्की वे की चौड़ाई लगभग 100000 प्रकाश वर्ष है।
  • सूर्य पृथ्वी से 300000 गुना बड़ा है।
  • अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा छोड़े गए पैरों तथा टायर के निशान के निशान चंद्रमा से कभी भी मिटेंगे नहीं, क्योंकि वहां पर ऐसा करने के लिए हवा नहीं है।
बृह्स्पति गृह Jupiter Planet in Hindi
  • मंगल ग्रह पर कम गुरुत्वाकर्षण के कारण पृथ्वी पर 100 किलोग्राम वाले एक व्यक्ति का वजन वहां 38 किलोग्राम होगा।
  • बृहस्पति ग्रह के उपग्रह 82 हो गए है, जबकि बृहस्पति के चारों ओर 79 चाँद ही चक्कर लगाते हैं।
  • बृहस्पति ही ऐसा ग्रह है जिसके सबसे ज्यादा उपग्रह हैं।
  • मंगल ग्रह पर 1 दिन 24 घंटे 39 मिनट और 35 सेकंड होता है।
  • अंतराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन पर अंतरिक्ष यात्रियों को दिन में कम से कम 2 घंटे व्यायाम करना जरूरी होता है।
  • नासा के क्रेटर निरीक्षण और सेंसिंग सैटेलाइट ने यह घोषित किया है कि उन्हें चंद्रमा पर जल के प्रमाण मिले हैं।
  • पृथ्वी एक ऐसा ग्रह है जिसका नाम किसी भी देवता के नाम पर नहीं रखा गया है।
  • गुरुत्वाकर्षण बल कभी-कभी धूमकेतु को भी तोड़ सकता है।
  • पृथ्वी पर ज्वार भाटा का कारण सूर्य तथा चंद्रमा का अपना गुरुत्वाकर्षण है।

सूर्य एक रोटेशन 25-35 दिनों में पूरा करता…

  • प्लूटो चंद्रमा से भी छोटा है यहां तक कि व्यास में यह यूनाइटेड स्टेट अमेरिका से भी छोटा है।
  • गणितीय गणनाओं के आधार पर कहा जा सकता है कि व्हाइट होल्स (white holes) का होना संभव है जब तक कि कोई भी व्हाइट होल्स अभी तक ज्ञात नहीं है।
  • हमारा चंद्रमा लगभग 4.5 बिलियन वर्ष पुराना है।
  • नासा ने मतदान के दौरान स्पेस से ही अंतरिक्षयात्री के द्वारा वोट डालने की व्यवस्था की है।
  • हमारे सौर मंडल में सबसे ज्यादा ज्वालामुखी शुक्र ग्रह पर हैं।
  • अरुण ग्रह की नीली चमक का कारण उसके वायुमंडल में पाई जाने वाली मिथेन गैस है।
  • हमारे सौर मंडल में पाए जाने वाले चार ग्रह बृहस्पति,शनि,अरुण व वरुण ग्रह गैस दानव के रूप में जाने जाते हैं।
  • अरुण ग्रह के 27 उपग्रह है, इनमें से 5 बड़े उपग्रह,22 छोटे उपग्रह हैं। टाइटेनिया इन सभी उपग्रहों में से सबसे बड़ा है।
शनि ग्रह की रोमांचक जानकारी Saturn Planet in Hindi
  • एक प्रकाशवर्ष में 94 खरब, 60 अरब, 52 करोड़, 84 लाख, 5 हजार किलोमीटर होते हैं।
  • अपने अद्वितीय झुकाव के कारण अरुण ग्रह में एक रात्रि पृथ्वी के 21 वर्ष के बराबर होती है।
  • शुक्र ग्रह पर एक दिन, पृथ्वी के एक वर्ष से भी बड़ा होता है।
  • वरुण ग्रह का एक उपग्रह टाइटन धीरे-धीरे इस के करीब आता जा रहा है।
  • यू वाय स्कूटी तारा हमारे ब्रह्मांड का अब तक का खोजा गया सबसे बड़ा तारा है।
  • अपने ग्रह की विपरीत दिशा में चक्कर लगाने वाला एकमात्र बड़ा उपग्रह टाइटन है जो कि वरुण ग्रह का उपग्रह है।
  • वरुण ग्रह सूर्य की एक परिक्रमा लगाने में 164.79 वर्ष लेता है।
  • अंतरिक्ष में पानी की बेहद कमी रहती है इसलिए अंतरिक्ष यात्री कपड़े धो नहीं सकते हैं। वे एक ही कपडे को कई दिनों तक पहनते हैं और जरूरत पड़ने पर नए कपड़ों से उन्हें बदल लेते हैं।

यूरेनस ग्रह पर गर्मियां 45 साल लंबी…

  • HD189733B नाम का ग्रह जो हमारी धरती से 63 प्रकाश वर्ष दूर है। जहाँ कांच की बारिश होती है और इस ग्रह पर हवाओं की रफ्तार 8700 किलोमीटर प्रति घंटे तक की है।
  • पृथ्वी के वायुमंडल और चुंबकीय क्षेत्र से असुरक्षित, अंतरिक्ष यात्रियों को सूर्य द्वारा उत्सर्जित विकिरण और दूर के सितारों और आकाशगंगाओं से अधिक ख़तरा है।
  • हमारे सौर मंडल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रह शनि है।
  • नेपच्यून पहला ऐसा ग्रह था, जिसके अस्तित्व को गणना के माध्यम से पता लगाया था, ना कि दूरबीन से।
  • पृथ्वी,मंगल,बुध व शुक्र आंतरिक ग्रह कहलाते हैं क्योंकि यह सूर्य के अधिक नज़दीक होते हैं।
  • आकाश के ग्रह नक्षत्र जो दूर होने से लगभग स्थिर से लगते हैं (यद्यपि वे भी गति मान हैं ),पृथ्वी के पश्चिम से पूरब दिशा की ओर घूमने के कारण ही विपरीत क्रम से पूर्व में उदित होकर पश्चिम दिशा में अस्त होते दीखते हैं।
Oumuamua क्या है in Hindi
  • पहला सैटेलाइट ब्रिटेन ने लांच किया था जिसका नाम ब्लैक एरो (Black arrow) था।
  • ध्वनि तरंगों का इस्तेमाल वस्तुओं को हवा में उड़ाने के लिए भी किया जा सकता है।
  • चाँद पर जाने वाला पहला व्यक्ति नील आर्मस्ट्रांग था जिसने 20 जुलाई 1969 को बाँया पैर सर्व प्रथम चंद्रमा पर रखा था।
  • क्रिस्टीना कोच (290 दिनों तक) अंतरिक्ष में सबसे ज्यादा समय तक रहने वाली महिला बन गई हैं।
  • स्पेस स्टेशन पृथ्वी का एक चक्कर 90 मिनट में पूरा करता है।
  • जनरल थ्योरी ऑफ रिलेटिविटी के निर्माण में, आइंस्टीन ने महसूस किया कि गुरुत्वाकर्षण और त्वरण बराबर हैं।
  • हम पृथ्वी पर कहीं भी चले जाएं परंतु हम केवल चंद्रमा का एक ही भाग देख पाते हैं।
  • प्लूटो को सूरज का चक्कर लगाने में 248 साल लगते हैं।
  • मिल्की वे में 200 बिलियन तारे पाए जाते हैं।
  • मरीनर 10 ही एक ऐसा स्पेस क्राफ्ट है जो बुध ग्रह पर गया।

प्लूटो का दिन पृथ्वी के 6 दिन और 9 घंटे के बराबर है…

  • शोधकर्ताओं का मानना है कि हमारे अंतरिक्ष में 100 बिलियन से भी ज्यादा आकाश गंगा है।
निकोला टेस्ला का जीवन और अविष्कार

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *