मोहब्बत की अभिव्यक्ति सबसे पहले आँखों से होती है और फिर होठों से हाल-ऐ-दिल बयान करते हैं। और सबसे मज़ेदार बात यह होती है कि आपको मोहब्बत कब, कैसे और कहाँ हो जाएगा आप खुद भी नहीं जान पाते।

वो पहली नजर में भी हो सकता है और हो सकता है कि कई मुलाकातें भी आपके दिल में किसी के प्रति प्यार ना जगा सकें।मोहब्बत का प्रतीक गुलाब- सुगंध और सौंदर्य का अनुपम समन्वय गुलाब सदियों से प्रेमी-प्रेमिकाओं के आकर्षण का केंद्र रहा है। “कुछ कहो तो शर्मा जाती है आंखे, बिन बोले, बहुत कुछ कह जाती हैं आंखे” गुलाब का जन्म स्थान कहाँ है यह आज भी विवाद का विषय बना हुआ है।
मोहब्बत एक ऐसी भावना है जो किसी को हो जाए तो बस उनको दुनिया से और कुछ नही चाहिए होता.

प्यार मोहब्बत की लाखों कहानियाँ हम सब सुनते आए है, लेकिन जब ख़ुद को किसी से प्यार होता है ना तो उस इन्सान को दुनिया में सब कुछ अच्छा लगने लगता है.प्रेम में दार्शनिकों का पक्ष- प्रेम पनपता है तो अहंकार टूटता है।(तेरे बिन बोले ही मुझे मेरे,प्यार का जवाब मिल गया,तेरी नज़रे झुकी और हमारे प्यार का फूल खिल गया) अहंकार टूटने से सत्य का जन्म होता है।

दिल और प्यार

यह स्थिति तो बहुत ऊपर की है, यदि हम मोहब्बत में श्रद्धा मिला लें तो प्रेम भक्ति बन जाता है, जो लोक-पर लोक दोनों के लिए ही कल्याणकारी है। इसलिए गृहस्थ आश्रम श्रेष्ठ है, क्योंकि हमारे पास भक्ति का कवच है।

मित्रों ऐसे ही कुछ खास भावनात्मक और लविंग पर बनी शायरी का कलेक्शन हम लेकर आए है. जिन्हें आप फेसबुक, व्हाट्सप्प और इंटरनेट पर किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर डाल सकते है. और अगर आपको हमारा ये पोस्ट पसंद आए तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर ज़रूर करे और कॉमेंट बॉक्स में अपने सुझाव अवश्य दे ,धन्यवाद..

छुपे छुपे से रहते हैं सरे आम नहीं हुआ करते,
कुछ रिश्ते बस एहसास होते हैं उनके नाम नहीं हुआ करते.!!

मोहब्बत

कैसे एक लफ्ज़ में बयान कर दूँ, दिल को किस बात ने उदास किया.!!

मोहब्बत

मेरे ‪लफ्जों‬ से ‪न‬ कर मेरे ‪‎किरदार का फैसला,
तेरा वजूद ‪‎मिट‬ जाएगा मेरी ‪हकीक़त ‬ ढूंढते-ढूंढते,!!

मोहब्बत

नुमाइश करने से मोहब्बत बढ़ नहीं जाती,
मोहब्बत वो भी करते है,जो इज़हार तक नहीं करते.!!

मोहब्बत

मुमकिन ना होगा यूं भूल जाना मुझ को,
तेरा गुनाह हूं मैं अक्सर याद आऊंगा.!!

मोहब्बत

दिल की दहलीज पर रख कर तेरी यादों के चिराग,
हमने दुनिया को मोहब्बत के उजाले बख्शे.!!

मोहब्बत

अब उसके साथ रहूँ या फिर उस से किनारा कर लूँ,
ज़रा ठहर जा ऐ दिल मैं ये फैसला दोबारा कर लूँ.!!

मोहब्बत

ना मैं गिरा और ना मेरी उम्मीदों के मीनार गिरे,
पर कुछ लोग मुझे गिराने में कई बार गिरे.!!

मोहब्बत

थोड़ा सा और बिखर जाऊँ मैंने यही ठानी हैं,
ऐ जिंदगी थोड़ा रुक मैंने अभी हार कहाँ मानी हैं.!!

मोहब्बत

आज भी कितना नादान है दिल समझता ही नहीं,
बाद बरसों के उन्हें देखा तो दुआएँ माँग बैठा.!!

मोहब्बत

उनके रूठने का आलम ना पुछिये, वो तो इस बात पर भी
अक्सर रूठ जाया करती हैं, कि मैंने उन्हें मनाया क्यूँ नही.!!

मोहब्बत

याद करेंगे तो दिन से रात हो जायेगी, आईने को देखिये हमसे बात हो जायेगी,
शिकवा ना करिए हमसे मिलने का, आँखें बंद कीजिए मुलाकात हो जायेगी।

मोहब्बत

बहुत मिलेंगे तुझे वफ़ा के नाम पर लूटने वाले,मगर कोई तेरे
लिए अपनी आंखे नम करे तो, उसे मेरा सलाम कहना.!!

मोहब्बत

मुझ पर सितम कर गए मेरी ही ग़ज़ल के शेर,
पढ़-पढ़ के खो रहे हैं वो गैर के ख्याल में.!!

मोहब्बत

मोहब्बत किसे कहते है मुझे नहीं मालूम, ये वो रिश्ता
है जो मेरा उससे और उसका किसी और से है.!!

वो हर बार मुझे छोड़ के चली जाती है तन्हा,
मैं मज़बूत बहुत हूँ लेकिन कोई पत्थर तो नहीं हूँ.!!

कुछ कर गुजरने की चाह में कहाँ-कहाँ से गुज़रे,
अकेले ही नजर आयें हम जहाँ-जहाँ से गुज़रे.!!

ले गया छीन के कौन आज तेरा सब्र-ओ-करार,
बेक़रारी तुझे ऐ दिल कभी ऐसी तो ना थी.!!

आफ़त तो है वो नाज़ भी अंदाज़ भी लेकिन,
मरता हूँ मैं जिस पर वो अदा और ही कुछ है.!!

अक्सर चाय की प्याली पूछती है मुझसे…
क्या मुझ में भी उसके लबों जितनी मिठास है.!!

उनसे मोहब्बत करके, इस ज़माने से बैर लिया,
उनकी मोहब्बत भी ना मिली,ज़माना भी दुश्मन बन गया.!

राज़ खोल देते हैं नाज़ुक से इशारे अक़्सर,
कितनी खामोश मोहब्बत की ज़ुबान होती है.!!

यही बहुत है कि तुमने पलट के देख लिया,
ये लुत्फ़ भी मेरी उम्मीद से कुछ ज्यादा है.!!

अंजाम-ए-वफ़ा ये है जिसने भी मोहब्बत की,
मरने की दुआ माँगी जीने की सज़ा पाई.!!

क्या खूब ही होता अगर दुख रेत के होते,
मुट्ठी से गिरा देते और पैरो से उड़ा देते.!!

पीते थे शराब हम उसने छुड़ाई अपनी कसम देकर,
महफ़िल में यारों ने पिलाई उसी की कसम देकर.!!

चर्चे इश्क के नही इश्कबाजों के होते है,
इश्क तो आज भी खुदा की बंदगी है..!!

प्यार की भी अलग ही प्रथा है,
पल भर में हो जाता है उम्र भर के लिए.!!

उसे भूल कर जिया तो क्या जिया,दम है तो उसे पाकर दिखा,
लिख पत्थरों पर अपने प्रेम की कहानी,और सागर को बोल,
दम है तो इसे मिटा कर दिखा.!!

प्यार भरी शायरी महान शायरों की कलम से

शर्त-ए-मुहब्बत ये नही, कि हर वक्त ज़िक्र उनका हो,
मेरी खामोश मोहब्बत में भी हर वक्त फ़िक्र उसी का हो.!!

जब-जब याद करोगी अपनी तन्हाईयो को एक जलता चिराग सा नज़र आऊगा मैं,
राह से रह गुज़र बन के भी गुज़र जाओगी, एक मील का पत्थर सा खड़ा नज़र आऊगा मैं.!!

मोहब्बत

मुझको ढूंढ ही लेती हैं रोज़ एक नए बहाने से,
मुश्किलें वाक़िफ़ हो गयी हैं मेरे हर ठिकाने से.!!

हम जुदा हुए थे फिर मिलने के लिये,
ज़िंदगी की राहों में संग चलने के लिये,
तेरे प्यार की कशिश दिल में बसी है कुछ इस क़दर,
दुआ है तेरा साथ मिले ज़रा संभलने के लिये.!!

मोहब्बत

क्या करे जब किसी की याद आयें, हर धड़कन पे किसी का नाम आयें,
कैसे कटेंगे ये लम्हे इंतज़ार में उसके, इश्क़ में हर घड़ी मेरी जान जाये.!!

बिंदास मुस्कुराओ क्या ग़म है, ज़िन्दगी में टेंशन किसको कम है,
अच्छा या बुरा तो केवल भ्रम है,जिन्दगी का नाम ही कभी ख़ुशी कभी गम हैं.!!

मोहब्बत

ऐसा नही की आपकी याद आती नही, ख़ता सिर्फ़ इतनी है कि हम बताते नही,
दोस्ती आपकी अनमोल है हमारे लिए,समझते हो आप इसीलिए हम जताते नही.!!

तेरी बेरुखी को भी रुतबा दिया हमने,
प्यार का हर फ़र्ज़ अदा किया हमने,
मत सोच के हमने भुला दिया तुझे,
आज भी भगवान से पहले तुझे याद किया हमने.!!

मोहब्बत

आपको याद करना मेरी आदत बन गई है,आपका खयाल रखना मेरी फितरत बन गई है,आपसे मिलना ये मेरी चाहत बन गई है,आपको प्यार करना मेरी किस्मत बन गई है.!!

लिखना तो था के हम खुश है उसके बिना,
मगर आँसू निकल पड़े कलम उठाने से पहले.!!

मोहब्बत

मैं दिल हूँ तुम साँसे,मैं जिस्म हूँ तुम जान,मैं चाहत हूँ तुम इबादत, मैं नशा हूँ तुम आदत.!!

सुनो उदास नहीं होना क्योंकि मैं साथ हूँ,सामने ना सही पर आस-पास हूँ,
पल्को को बंद कर जब भी दिल में देखोगे, मैं हर पल तुम्हारे साथ हूँ.!!

मोहब्बत

कल रात चाँद बिल्कुल आप जैसा था, वो ही खूबसूरती,
वो ही नूर, वो ही गुरुर, और वैसे ही आप की तरह दूर.!!

ये अलग बात है कि तुम्हें यकीन नही आता ,
पर ये दिल तुम्हारे सिवा कहीं और नही जाता.!!

मोहब्बत

एक किताब की तरह हूँ मैं,
कितनी भी पुरानी हो जाए,
पर उसके अलफ़ाज़ नहीं बदलेंगे,
कभी याद आयें तो,पन्ने पलट कर देखना,
हम आज जैसे है,कल भी वैसे ही मिलेंगे.!!

मोहब्बत कैसी भी हो कसम से
सजदा करना सिखा देती है.!!

मोहब्बत

मुझे भी पता है कि तुम मेरी नहीं हो,इस बात
का बार बार एहसास मत दिलाया करों.!!

वादों से बंधी जंजीर थी जो तोड़ दी मैने अब
से जल्दी सोया करेंगे , मोहब्बत छोड़ दी मैने.!!

मोहब्बत

प्यार,मोहब्बत आशिकी.ये बस अल्फाज थे मगर
जब तुम मिले तब इन अल्फाजो को मायने मिले.!!

पागल उसने कर दिया एक बार देखकर,
मैं कुछ भी ना कर सका लगातार देखकर.!!

मोहब्बत

अब छोड़ दिया है “इश्क़” का “स्कूल” हमने भी ,
हमसे अब “मोहब्बत” की “फ़ीस” अदा नही होती !

बस यही सोचकर किसी से शिकवा ना किया मैंने,
कि अपनी जगह हर इंसान सही हुआ करता है.!!

मोहब्बत

नहीं भूल पाते हम मोहब्बत के उस दौर को,
चाहते थे दिल से हम उन्हे वो किसी ओर को.!!

मोहब्बत

दर्द हैं दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
रोता हैं दिल जब वो पास नहीं होता,
बर्बाद हो गए हम उनकी मोहब्बत में,
और वो कहते हैं कि इस तरह प्यार नहीं होता.!!

मोहब्बत

मेरी हर तलाश तुझ पर ही आकर खत्म होती है,
अब कोई बताए मुझे क्या इससे ज्यादा भी कही मोहब्बत होती है.!!

मोहब्बत

उम्र तमाम ना करो ज़रा सी ख्यालों में तुम पनाह दो,
यूँ मेरी कोशिशें नाकाम ना करो, दुनिया वालों की छोड़ो
किसी एक वज़ह से पूरी कौम को बदनाम ना करो.!!

मोहब्बत

2 Comments

सम्भोग करने के आश्चर्यजनक फायदे जीवन आपको लंबे समय तक जीवित रखता है · February 5, 2020 at 7:06 pm

[…] की ठंड में दोनों आपस में एक-दूसरे की बांहों में गरमाहट का एहसास पाना चाहते हैं। ऐसे में […]

कादरी भूत का सच,और उसकी पत्‍नी का निवास स्‍थान हैं 1930 की बात · February 11, 2020 at 6:29 pm

[…] ज्‍यादा था। मैंने चाकू की सहायता से वृक्ष का कुछ छिलका और लकड़ी काट ली और रेस्‍ट हाउस वापस […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *