रोमांटिक शायरी हिंदी में – प्यार की शायरी साझा करने के बाद आज हम अपने पाठकों के लिए रोमांटिक शायरी का नवीनतम कलेक्शन लाए हैं इस लेख में आप रोमांटिक हिंदी शायरी का नवीनतम कलेक्शन पाएंगे। जब आप अपनी गर्लफ्रेंड यानी की प्रेमिका के बारे में सोचते हैं, जब आपको उनकी याद आती है तब आप क्या करते हैं? उनको कॉल करते हैं उनसे बात करते हैं, व उनको अपने दिल की बात बताते हैं|

अगर आपको अपने दिल की बात उन्हें बतानी हो तो आप क्या करेंगे? आप उनको शायरी या कविता सुनाएंगे| अपनी बात उनके दिल तक पहुंचाने के लिए आपको रोमांटिक संदेशों की ज़रूरत पड़ेगी जो की आज हम रोमांटिक शायरी फॉर गर्लफ्रैंड आपके लिए लाये हैं| या फिर इस पोस्ट में हमने आपको लव अथवा प्यार के ऊपर रोमांटिक शायरी बताई है जिन्हे पढ़ कर आप अपनी महबूबा या आशिक, पति या जीवन साथी या अन्य प्रेमी-प्रेमिका को को भेज सकते है |

रोमांटिक शायरी

चुपके से आकर इस दिल में उतर जाते हो, सांसों में मेरी खुशबु बनके बिखर जाते हो,
कुछ यूँ चला है तेरे इश्क का जादू, सोते-जागते तुम ही तुम नज़र आते हो।

रोमांटिक शायरी प्रेमी के लिए-

दुल्हन बन के मेरी जब वो मेरी बाँहों में आयी थी
सेज सजी थी फूलों की पर उस ने महकाई थी
घूँघट में इक चाँद था और सिर्फ तन्हाई थी
आवाज़ दिल के धड़कने की भी फिर ज़ोर से आयी थी
एक लाइन में क्या तेरी तारीफ़ लिखू
पानी भी जो देखे तुझे तो प्यासा हो जाये
प्यार से जो मैंने घूँघट चाँद पर से हटाया था
प्यार का रंग भी उतरकर उसके चेहरे पर आया था
तुझे क्या कहूं तू है मरहबा. तेरा हुस्न जैसे है मयकदा
मेरी मयकशी का सुरूर है, तेरी हर नजर तेरी हर अदा…

दिल के बाजार में चाह नही होती, दर्द होता हे मगर आह नही होती,
अगर दिल से किया गया हो कोई सौदा, तो चुकाई गई कीमत की परवाह नही होती.

आँखों में आँसू कि लकीर बन गयी,कभी न सोचा था ऐसी तक़दीर बन गयी,
हमने तो यूं ही रखी थी रेत पे उंगलिया,ग़ौर से देखा तो आपकी तस्वीर बन गयी.

दिल कि हसरत जुबां पर आने लगी,तुम को देखा और ज़िदगी मुस्कुराने लगी,
ये दोस्ती कि इंतेहा हे या मेरी दीवानगी,हर सूरत में तेरी सूरत नज़र आने लगी.

भयानक उल्कापिंड विस्फोट

अहसास बहुत होगा जब भूल के जायेंगे, रोयोगे बहुत मगर आँसू नही आएँगे,
जब कोई साथ ना दे तब हमे याद करना,जहाँ भी हम होंगे वहां से लौट आयेगे.

दिल झुकाया है तो सर भी झुकना होगा,लग गयी आग तो मुझे ही बुझाना होगा,
दिल बेताब को सीने से लगाना होगा,आज पर्दा है तो कल सामने भी आना होगा.

कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे, हम तो दरिया है सागर में उतर जायेंगे,
वो तरस जायेंगे प्यार की एक बूंद के लिए हम तो बादल है प्यार के…किसी और पर बरस जायेंगे|

शायर तो हम है शायरी बना देंगे,आपको शायरी मे क़ैद कर लेंगे,
कभी सुनाओ हमे अपनी आवाज़,आपकी आवाज़ को हम ग़ज़ल बना देंगे !

मंज़िलो से अपनी डर ना जाना,रास्ते की परेशानियों से टूट ना जाना,
जब भी ज़रूरत हो ज़िंदगी मे किसी अपने की,हम आपके अपने है ये भूल ना जाना !

ना हम कुछ कह पाते है ना वो कुछ कह पाते है,एक दूसरे को देखकर गुज़र जाया करते है,
कब तक चलता रहेगा ये सिलसिला,ये सोचकर दिन गुज़र जाया करते है !!

आप को इस दिल में उतार लेने को जी चाहता है,खूबसूरत से फूलों में डूब जाने को जी चाहता है,
आपका साथ पाकर हम भूल गए सब मैखाने,क्योंकि उन मैखानो में भी आपका ही चेहरा नज़र आता है !

आँखों मे आ जाते है आँसू,फिर भी होठों पे हसी रखनी पड़ती है,
ये मोहब्बत भी क्या चीज़ है यारो,जिस से करते है उसी से छुपानी पड़ती है !

एक जुर्म हुआ है हम से एक यार बना बैठे हैं,कुछ अपना उसको समझ कर सब राज़ बता बैठे हैं,
फिर उसकी प्यार की राह में दिल ओर जान गँवा बैठे हैं,वो याद बहुत आते हैं जो हमको भुला बैठे हैं !

तुम्हें देखा तुम्हें चाहा तुम्ही को दिल भी दे डाला,अब अरमान है इतना कि तुम मेरे सामने आओ,
कुछ तुम कहो कुछ हम कहे इकरार हो जाए,मिट जाए सारी दूरियाँ और प्यार हो जाए.!

प्यार भरी शायरी महान शायरों की कलम से

हम चाहे ना चाहे निगाहें मिल ही जाती हैं,निगाहें तो ज़रिया है दो दिलो के मिलने का,
जब मिलने हो दो दिल , निगाहें मिल ही जाती है.!

कभी-कभी ऐसा होता है प्यार का असर देर से होता है,आपको क्या लगता
हम आपके बारे कुछ नही सोचते पर हमारी हर बात में आपका जिक्र होता है !

देख के आपकी जवानी को,आरज़ू-ए-शराब होती है,
रोज़ तौबा को भूलता हूँ मैं,रोज़ नीयत ख़राब होती है !

आँखों में दोस्तों जो पानी है,हुस्न वालों की ये मेहरबानी है,
आप क्यों सर झुकाए बैठे हैं,क्या आपकी भी यही कहानी है !

जाने कभी गुलाब लगती है,जाने कभी शबाब लगती है,तेरी आखें ही हमें बहारों का ख्बाब लगती है,
मैं पिए रहू या ना पिए रहु,लड़खड़ाकर ही चलता हु,क्योंकि तेरी गली की हवा ही मुझे शराब लगती है !

जब खामोश आँखो से बात होती है,ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है,
तुम्हारे ही ख़यालो में खोए रहते हैं,पता नही कब दिन और कब रात होती है.!

मेरे वजूद मे काश तू उतार जाए, मैं देखूं आईना ओर तू नज़र आए,
तू हो सामने और वक़्त ठहर जाए,ये ज़िंदगी तुझे यू ही देखते हुए गुज़र जाए.!

फूल जब माँगते है बरसो दुआ,तब बहारो की कली खिलती है,
तुम तो आई हो कही जन्नत से,ऐसी महबूबा जमाने मे कहाँ मिलती है !

सुकरात एक महान दार्शनिक The Great Philosopher

हम से दूर जाओगे कैसे?दिल से हमे भुलाओगे कैसे?
हम तो वो खुश्बू है जो सांसो मे बसती है,
अपनी सांसों को रोक पाओगे कैसे.?

जब ख़ुदा ने इश्क बनाया होगा,तब उसने भी इसे आज़माया होगा,
हमारी औकात ही क्या है,कमबख्त इश्क ने तो ख़ुदा को भी रुलाया होगा !

वो ज़िंदगी ही क्या जिसमे मोहब्बत नही,वो मोहब्बत ही क्या जिसमे यादें नही,
वो यादें क्या जिसमे तुम नही,और वो तुम ही क्या जिसके साथ हम नही !!

मैं तो चिराग हूँ तेरे आशियाने का कभी ना कभी तो बुझ जाऊँगा ,
आज शिकायत है तुझे मेरे उजाले से,कल अंधेरे में बहुत याद आऊंगा !

खुशबू तेरी मज़े महका जाती है,तेरी हर बात मूज़े बहका जाती है,
सांस को बहुत देर लगती है आने में,हर सांस से पहले तेरी याद आ जाती है !

आपकी आँखें उँची हुई तो दुआ बन गई,नीची हुई तो हया बन गई,
जो झुक कर उठी तो खता बन गई,और उठ कर झुकी तो अदा बन गई !

इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है,खामोशियो की आदत हो गयी है,
ना शिकवा रहा ना शिकायत किसी से,अगर है तो एक मोहब्बत,जो इन तन्हाइयों से हो गई है.!

एक सच्चा दिल सब के पास होता हैं,फिर क्यों नहीं सब पे विश्वास होता हैं,
इंसान चाहे कितना भी आम हो,वो किसी-ना-किसी के लिए ज़रुर खास होता हैं !

चाँद से कहो चमकना छोङ दे, सितारों से कहो टिमटिमाना छोङ दे,
तुम मुझसे मिलने नहीँ आती,तो अपनी यादों से कहो मुझे सताना छोङ दे !

हिंदी शायरी इश्क, सुंदरता, जुदाई चुनिंदा शेरो-शायरी का एक बेहतरीन संग्रह

वो दिन दिन नही वो रात रात नही वो पल पल नही जिस पल आपकी बात नही,
आपकी यादों से मौत हमे अलग कर सके, मौत की भी इतनी भी औकात नही !

क्यो किसी से इतना प्यार हो जाता है,एक पल का इंतज़ार भी दुश्वार हो जाता है,
लगने लगते है अपने भी प्यारे,और एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है.!!

आईना देखोगे तो मेरी याद आएगी,साथ गुज़री वो मुलाकात याद आएगी,
पल भर के लिए वक़्त ठहर जाएगा,जब आपको मेरी कोई बात याद आएगी !

पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं,वो सोचते हैं की हम कभी रोये ही नहीं,
वो पूछते हैं कि ख़्वाब में किसे देखते हो,और हम हैं की उनकी यादों में सोए ही नहीं !

दिल के सागर मे लहरे उठाया ना करो,ख़्वाब बनकर नींद चुराया ना करो ,
बहुत चोट लगती है मेरे दिल को,तुम ख्वाबो में आकर यू तड़पाया पाया ना करो !

बहुत खूब सूरत है आंखे तुम्हारी , इन्हें बना दो किस्मत हमारी,
हमें नहीं चाहिये ज़माने की ख़ुशियाँ अगर मिल जाये मोहब्बत तुम्हारी !

Tanhaji: The Unsung Warrior

सूरज आग उगलता है, सहना धरती को पड़ता है,
मोहब्बत निगाहें कराती है,रोना दिल को पड़ता है !

पत्थर की दुनिया जज़्बात नही समझती,दिल में क्या है वो बात नही समझती,
तन्हा तो चाँद भी सितारों के बीच में है,पर चाँद का दर्द वो रात नही समझती.!

ख़्वाइश तो यही है कि तेरे बाँहों में पनाह मिल जाये,शमा खामोश हो जाये और शाम ढल जाये,
प्यार इतना करे कि इतिहास बन जाये ,और तुम्हारी बाँहों से हटने से पहले शाम हो जाये.!!

तेरी खामोशी हमारी कमज़ोरी हैं,कह नहीं पाना हमारी मज़बूरी हैं,
क्यों नहीं समझते हमारी खामोशियो को,खामोशियो को जुबा देना बहुत जरूरी हैं.!

A Colony

जी भर के देखूँ तुझे अगर गवारा हो,बेताब मेरी नज़रे हो और चेहरा तुम्हारा हो,
जान की फिकर हो ना जमाने की परवाह ,एक तेरा प्यार हो जो बस तुम्हारा हो.!

हमारी किसी बात से खफा मत होना,नादानी से हमारी नाराज़ मत होना ,
पहली बार चाहा है हमने किसी को इतना,चाह कर भी कभी हमसे दूर मत होना.!

प्यार का शुक्रिया कुछ इस तरह अदा करूँ,आप भूल भी जाओ तो मे हर पल याद करूँ,
प्यार ने बस इतना सिखाया है मुझे कि खुद से पहले आपके लिए दुआ करूँ..!!

दिल की हर बात ज़माने को बता देते है,अपने हर राज़ से पर्दा उठा देते है,
चाहने वाले हमे चाहे या ना चाहे,हम जिसे चाहते है उस पर ‘जान’ लूटा देते है.!

Nymphomaniac: Vol. I

दुआ करते हैं हम सर झुका के,आप अपनी मंज़िल को पाए ,
अगर आपकी राहों मे कभी अंधेरा आए,तो रोशनी के लिए ख़ुदा हमको जलाए.!

हस्ती मिट जाती है आशियाँ बनाने मे,बहुत मुश्किल होती है अपनों को समझाने मे,
एक पल मे किसी को भुला ना देना,ज़िंदगी लग जाती है किसी को अपना बनाने मे.!

गुल को गुलाब बना देते,गुलाब को कमल बना देते,
जानम तुम हम पर मरते नहीं,
वरना जोधपुर में भी ताजमहल बना देते !

Torpedo

तन्हाई मैं मुस्कुराना भी इश्क़ है,इस बात को सब से छुपाना भी इश्क़ है,
यूँ तो रातों को नींद नही आती,पर रातों को सो कर भी जाग जाना इश्क़ है !

घर से बाहर वो नक़ाब मे निकली,सारी ही गली उनकी फिराक मे निकली,
इनकार करते थे वो हमारी मोहब्बत से,और हमारी ही तस्वीर उनकी किताब से निकली.!


1 Comment

Naif Mohammad · January 11, 2020 at 8:22 pm

wow nice mja aa gya
great shayri…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *