सोलर पैनल सोलर सेल से बना होता है. सोलर पैनल में छोटे-छोटे सेल्स होते हैं.
जिन पर यदि सूरज की रोशनी पड़ती है,तो उस रोशनी को उन सेल्स की सहायता से उस लाइट को करंट में या बिजली में बदल देते हैं.
ग्लोबल वार्मिंग और कार्बन प्रदूषण के बढ़ते प्रभावों के साथ, पर्यावरण संरक्षण एक प्राथमिकता बन गई है।
इसके अलावा, ऊर्जा उत्पादों की बढ़ती लागत बढ़ रही है,
हमारे पर्यावरण को आगे के खतरों से बचाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।
एक सौर पैनल सूर्य के प्रकाश को एक विद्युत प्रवाह में परिवर्तित करता है या गर्मी का उपयोग घर या भवन के लिए बिजली प्रदान करने के लिए किया जाता है।
सौर पैनलों का निर्माण बहुत सारी छोटी सौर कोशिकाओं के संग्रह के रूप में किया जाता है जो पर्याप्त शक्ति प्रदान करने के लिए एक बड़े क्षेत्र में फैली हुई हैं।

आज के समय में सोलर पैनल तो बहुत जगह पर इस्तेमाल किए जाते हैं.
यदि हम सोलर पैनल का इस्तेमाल करते हैं. तो हमें किसी जनेटर या किसी दूसरी बिजली की आवश्यकता नहीं होती है.
यह ऊर्जा प्रदूषन रहित होती है. और सोलर पैनल तो इतने बड़े-बड़े होते हैं. सोलर पैनल आप अपने पूरे घर की लाइट को कंट्रोल कर सकते हैं|
उनसे आप अपने पूरे घर में लाइट इस्तेमाल कर सकते हैं. और यह एक बहुत ही अच्छी चीज है.
उसके लिए सिर्फ आपको सूरज की रोशनी चाहिए और आप बिजली तैयार कर सकते हैं|

सोलर पैनल कैसे काम करता है?

सौर पैनल सौर फोटो-वोल्टाइक (पीवी) प्रभाव के माध्यम से प्रकाश फोटॉन को बिजली में परिवर्तित करके काम करते हैं।
यह सूर्य के प्रकाश को सौर ऊर्जा, या बिजली में सीधे रूपांतरण कर देता है।
सौर पैनल अर्द्ध-प्रवाहकीय सामग्री की परतों का उपयोग करते हैं,
सबसे अधिक सिलिकॉन। PV को किलोवाट पीक (KWp) द्वारा मापा जाता है।
यह सौर पैनल गर्मियों में प्रत्यक्ष सूर्य के प्रकाश के साथ अपने चरम प्रदर्शन पर ऊर्जा उत्पन्न करते हैं।
सोलर पैनल सेल या तो छतों पर या जमीन पर लगाए जा सकते हैं|

सिलिकॉन एक सेमीकंडक्टर होता है. जो दो प्रॉपर्टी दिखाता है.
एक तो कंडक्टर की और दूसरी इंसुलेटर चाहिए|
सेमीकंडक्टर यानी आधा कंडक्टर यह आधा कंडक्ट करता है और आधा इंसुलेट करता है|
कंडक्टर जिसके अंदर से इलेक्ट्रिसिटी या बिजली पास होती है|
जैसे कि कोई इलेक्ट्रिकल तार लोहे का या किसी दूसरी धातु का किसी भी धातु का तार यह एक कंडक्टर होता है. यदि आप एक लकड़ी की बनी चीज से बिजली की तार को कनेक्ट करते हैं|
तो एक इंसुलेट का काम करते हैं और उसके अंदर से बिजली पास नहीं होती है|
सेमीकंडक्टर इंसुलेटर और कंडक्टर दोनों चीजों से मिलकर बना होता है|

क्या है सेमीकंडक्टर?

सेमीकंडक्टर में जो सिलिकॉन होती है इसमें दो टाइप का होता है इसके दो सिरे होते हैं P और N टाइप होता है| वह Positive और N मतलब Negative दोनों को एक साथ इकट्ठा किया जाता है|
और उसके ऊपर सूरज की रोशनी डाली जाती है|

Positive इलेक्ट सेमीकंडक्टर से Negative की तरफ प्रोटोन चल कर जाते हैं
आप जानते हो इलेक्ट्रॉन क्या होते हैं इलेक्ट्रॉन्स बहुत ही छोटे और सूक्ष्म कण होते हैं.
और जब वह चलना शुरू कर देते हैं उसी को हम बिजली करंट बोलते हैं
सूरज की रोशनी से सूक्ष्म कण हैं जिनको देखना बिल्कुल नामुमकिन है.
उनको फोटॉन कहते हैं सूरज की रोशनी से सूक्ष्म कण आते हैं जो सोलर पैनल पर गिरते हैं|

इस सेमीकंडक्टर में ऐसी प्रक्रिया होना शुरू हो जाती है जिससे पॉजिटिव से इलेक्ट्रॉन चलना शुरू कर देते हैं|बिजली बन जाती है Negative की तरफ जब इलेक्ट्रॉन्स जाते हैं. तो वहां पर खाली जगह होती है|
उस जगह को वहां पर बदलने के लिए इलेक्ट्रॉन्स जाना शुरु कर देते हैं|
इस तरह से ही बिजली सोलर पैनल द्वारा बनती है|

सोलर पैनल के फायदे

बिजली या अन्य ऊर्जा के स्त्रोत को उत्पन्न करने के दौरान कुछ ना कुछ प्रदूषण होता ही है|
और यह प्रदूषण से पर्यावरण को नुकसान पहुंचाता है।
वहीं दूसरी ओर सौर ऊर्जा की उत्पत्ति में ऐसी कोई मुश्किल सामने नहीं आती है।
१- सौर ऊर्जा प्रदूषण मुक्त है|
२- दुसरे ऊर्जा के साधनो पर आश्रित ना होना|
३- रखरखाव ना के बराबर|
४- दूसरो की तुलना में सुरक्षित|
५- सौर ऊर्जा असल में नवीकरणीय ऊर्जा का स्त्रोत है।
६-सौर ऊर्जा द्वारा उत्पन्न बिजली से अपनी सभी ऊर्जा की जरूरतों को पूरा करेंगे, इस कारण आप को बिजली के बिल की भारी कीमत से राहत मिलेगी|
७- अधिकतम उपयोग|
८- प्रौद्योगिकी विकास- सौर ऊर्जा के सफलतापूर्वक बढ़ते हुए उपयोग से औद्योगिक विकास में वृद्धि आई है एवं भविष्य में भी तेजी से आगे बढ़ने की आशंका है।
९- यदि आप सोलर पैनल एक बार लगवा लेते हैं. तो उसके बाद आपको किसी भी तरह की दूसरी बिजली की जरूरत नहीं पड़ती है|
१०- यदि आप गांव में रहते हैं या अब खेत में रहते हैं और आपके पास बिजली का कोई साधन नहीं है|
आप इसका बहुत ही आसानी से इस्तेमाल कर सकते हैं|
और आप जितनी चाहे इससे बिजली ले सकते हैं वह आपके ऊपर निर्भर करता है|


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *