हिंदी शायरी अपने दिल की भावनाओं, जज्बातों को वाक्य में व्यक्त करने को ही शायरी कहा जाता है। इस पेज पर कई विषयों इश्क, सुंदरता, जुदाई आदि पर बेहतरीन शायरी दी गई है. हिंदी और उर्दू दोनों ही भारतीय भाषाओं में शायरी का इतिहास काफी पुराना है। हिंदी शायरी वाक्य का एक ऐसा रूप है जिसमें कुछ ही शब्दों या पंक्तियों में बहुत ही हृदय की भावनाएं समा हित हो जाती हैं, जो पढ़ने या सुनने वाले को भाव-भावविभोर कर देती है। अपने आप मुँह से ‘वाह वाह’ निकल जाता है। हमने इसी तरह की चुनिंदा शेरो-शायरी का एक बेहतरीन संग्रह संतुलित किया है।

हिंदी शायरी

हिंदी शायरी से भारतीय जनता का एक मज़बूत रिश्ता रहा है और शायरी हिंदुस्तानी दिलों के काफी नज़दीक रही है। दिल जब ख़ुशी से झूम उठे ! या फिर दर्द से रोते दोनों ही हालत में इंसान शायरी में अपनी फिलिंग्स बयान करता है। प्यार में शायरी और शायरी में इश्क ना हो ऐसा मुमकिन ही नहीं है। हिंदुस्तानी हमेशा से ग़ज़ल हिंदी शायरी के दीवाने रहें हैं, कवि सम्मेलन, कव्वाली सब शायरी के ही रूप हैं। मिर्ज़ा ग़ालिब, इक़बाल, मीर तक़ी मीर,ख्वाजा मीर दर्द, बाबर अली अनीस, सलामत अली दाबिर,मोहम्मद इब्राहिम ज़ोक, जोश, जिगर, फ़िराक़, फ़राज़, फ़ैज़ी आदि कुछ महान शायर हुए हैं जिनके कलाम को लोगो में आज भी पढ़ने की चाहत है।

महान शायरों की महान रचना-

हमको मेहसूस किया जायेगा खुशबु की तरह,
हम कोई शोर नहीं हैं जो सुनाई देंगे.!!

हिंदी शायरी

मोहब्बत में नहीं है फर्क़ जीने और मरने का,
उसी को देखकर जीते हैं जिस काफिर पर दम निकले.!!

इशरत-ऐ-कतरा है दरिया में फना हो जाना,
दर्द का हद से गुजरना है दवा हो जाना.!!

हिंदी शायरी

हाथों की लकीरों पर मत जा ऐ गालिब,
नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होते.!!

नज़र लगे ना कहीं उसके दस्त-ओ-बाजू को,
ये लोग क्यूँ मेरे ज़ख्में जिगर को देखते हैं.!!

हिंदी शायरी

वो आए घर हमारे खुदा की कुदरत है,
कभी हम उनको कभी अपने घर को देखते हैं.!!

जला है जिस्म जहां दिल भी जल गया होगा,
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तजू क्या है.!!

हिंदी शायरी

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है,
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज-ऐ-गुफ्तगू क्या है.!!

हिंदी शायरी

तुम ना आए तो क्या सहर ना हुई!
हाँ मगर चैन से बसर ना हुई!!
मेरा नाला सुना जमाने ने!
एक तुम हो जिसे खबर ना हुई.!!

शायरी

हिंदी शायरी

तेरे वादे पर जिये हम, तो यह जान, झूठ जाना!
कि खुशी से मर ना जाते, अगर एतबार होता.!!

उनको देखे से जो आती है मुहँ पर रौनक,
वो समझते हैं के बीमार का हाल अच्छा है.!!

हिंदी शायरी

जला के रख लिया हाथों के साथ दामन तक,
तुम्हें चराग बुझाना भी तो नहीं आया.!!

सभी रिश्ते गुलाबो की तरह खुशबू नहीं देते,
कुछ ऐसे भी होते है जो कांटे छोड़ जाते हैं.!!

हिंदी शायरी

लोग कुछ भी कहें और मै चुप रहूँ,
यह सलीका मुझे जाने कब आएगा.!!

वो सूरत देख ली हम ने, तो फिर कुछ भी न देखा !
अभी वर्ना पड़ी थी एक दुनिया देखने को .!!

हिंदी शायरी इश्क, सुंदरता, जुदाई चुनिंदा शेरो-शायरी का एक बेहतरीन संग्रह

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई,
दोनों को इक अदा में रजामंद कर गई.!!

हमको मालूम है जन्नत की हकीक़त लेकिन,
दिल को खुश रखने को गालिब ये ख्याल अच्छा है.!!

भयानक उल्कापिंड विस्फोट
हिंदी शायरी इश्क, सुंदरता, जुदाई चुनिंदा शेरो-शायरी का एक बेहतरीन संग्रह

इश्क पर जोर नहीं है ये वो आतिश गालिब,
कि लगाए ना लगे और बुझाऐ ना बने.!!

दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए,
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए.!!

हिंदी शायरी इश्क, सुंदरता, जुदाई चुनिंदा शेरो-शायरी का एक बेहतरीन संग्रह

दिल-ऐ-नादान तुझे हुआ क्या है,
आखिर इस दर्द की दवा क्या है.!!

इश्क ने गालिब निकम्मा कर दिया,
वरना हम भी आदमी थे काम के.!!

आता है दाग-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद,
मुझसे मेरे गुनाह का हिसाब ऐ ख़ुदा ना मांग !!

हिंदी शायरी इश्क, सुंदरता, जुदाई चुनिंदा शेरो-शायरी का एक बेहतरीन संग्रह

इस क़दर तोड़ा है मुझे उसकी बेवफ़ाई ने ग़ालिब,
अब कोई प्यार से भी देखे तो बिखर जाता हूँ !!

हम तो फ़ना हो गए उसकी आँखें देखकर ग़ालिब,
ना जाने वो आईना कैसे देखते होंगे !!

हिंदी शायरी इश्क, सुंदरता, जुदाई चुनिंदा शेरो-शायरी का एक बेहतरीन संग्रह

जब नज़ारे थे तो आँखों को नहीं थी परवाह,
अब इन्हीं आँखों ने चाहा तो नज़ारे नहीं थे.!!

बाज़ एक शिकारी पक्षी है

मुस्कुराते हुए मिलता हूँ किसी से जो जफ़र,
साफ़ पहचान लिया जाता हूँ कि रोया हूँ मैं.!!

हिंदी शायरी
हिंदी शायरी इश्क, सुंदरता, जुदाई चुनिंदा शेरो-शायरी का एक बेहतरीन संग्रह

ज़ियादा नाज़ अब क्या कीजिए जोश-ए-जवानी पर,
कि ये तूफ़ाँ भी रफ़्ता-रफ़्ता साहिल होने वाला है!

झूठ बोला है तो क़ायम भी रहो उस पर ‘जफ़र’,
आदमी को साहब-ए-किरदार होना चाहिए!

हिंदी शायरी इश्क, सुंदरता, जुदाई चुनिंदा शेरो-शायरी का एक बेहतरीन संग्रह

सब को मालूम है और हौसला रखता हूँ अभी,
अपने लिखे हुए को खुद ही मिटा देने का.!!

विदा करती है रोज़ाना ज़िंदगी मुझ को,
मैं रोज़ मौत के मंझधार से निकलता हूँ!

हिंदी शायरी इश्क, सुंदरता, जुदाई चुनिंदा शेरो-शायरी का एक बेहतरीन संग्रह

हर शख्स दौड़ता हैं यहां भीड़ की तरफ़,
और चाहता है कि उसे रास्ता मिले,!!

अकेले चलना तो मेरा नसीब था कि,
मुझे किसी के साथ सफ़र बाँटना नहीं आता.!!

हिंदी शायरी इश्क, सुंदरता, जुदाई चुनिंदा शेरो-शायरी का एक बेहतरीन संग्रह

तुम्हारा साथ भी छुटा,तुम अजनबी भी हुए,
जमाना तुम को अब भी मुझ मे ढूँढता है.!!

कहने को तो मेरा दिल एक है, लेकिन जिसको दिया है, वो हजारों में एक है…..पढ़ने के इस लिंक पर क्लिक करे


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *